प्रधानमंत्री का चुनाव कैसे होता है | Pradhanmantri ka chunav kaise hota hai | नियुक्ति कौन करता है | बनने की प्रक्रिया क्या है ?

Share it now:

नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप लोग ? प्रधानमंत्री का चुनाव कैसे होता है | नियुक्ति कौन करता है | बनने की प्रक्रिया क्या है ? आज के इस ब्लॉग पोस्ट [ Pradhanmantri ka chunav kaise hota hai ] में हम लोग इन सभी महत्वपूर्ण बातों को जानने वाले हैं इस आर्टिकल में हम नीचे दिए गए तीन बातों को ध्यान पूर्वक विस्तार में जानेंगे:

  • प्रधानमंत्री का चुनाव कैसे होता है ?
  • प्रधानमंत्री की नियुक्ति कौन करता है ?
  • प्रधानमंत्री बनने की प्रक्रिया क्या है ?

Pradhanmantri ka chunav kaise hota hai | प्रधानमंत्री का चुनाव कैसे होता है

का चुनाव एवं बनने की प्रक्रिया क्या है 1
Pradhan mantri ka chunav kaise hota hai

तो मैं आपको बता दूं कि भारत के प्रधानमंत्री का चयन लोकसभा के सदस्य करते हैं तो अब आप कहेंगे कि हम लोग जो वोट करते हैं वह प्रधानमंत्री तक कैसे जाता है |

जो हमारे भारत के नागरिक प्रधानमंत्री के लिए वोट करते हैं वे सारे वोट कहां जाते हैं? हमारे वोट का क्या मान्यता आखिरकार या वोट उन तक पहुंचती कैसे हैं?

 इस आर्टिकल के माध्यम से आप समझ पाएंगे कि आप अपने गांव में रहकर प्रधानमंत्री जी के लिए वोट देते हैं तो आखिरकार वह वोट , वह मत हमारे प्रधानमंत्री जी तक कैसे पहुंचता है? जबकि प्रधानमंत्री का चयन तो लोकसभा के सदस्य करते हैं ।

इस उलझन को दूर करने एवं  इन सभी बातों को समझने के लिए इस ब्लॉग पोस्ट को पूरा पढ़ें..

जैसा कि मैंने आपको बताया कि लोकसभा के सदस्य ही प्रधानमंत्री { Pradhanmantri ka chunav kaise hota hai } का चयन करते हैं तो इसका मतलब आप हमें लोकसभा को समझना पड़ेगा आखिर इसका कार्य क्या है ? लोकसभा कैसे काम करती है, क्या प्रक्रिया होती है एवं प्रधानमंत्री के चयन को लेकर इससे इसका क्या संबंध है?

लोकसभा क्या है?

अभी तक पढ़ने के बाद आपके दिमाग में सबसे बड़ा सवाल खड़ा हो रहा होगा आखिरकार लोकसभा क्या है? बहुत ही आसान भाषा में, मैं आपको आज समझा लूंगा ! आपने कभी ना कभी संसद का नाम जरूर सुना होगा बस इसी को तो थोड़ा समझना है उसके बाद आप खुद ब खुद समझ जाएंगे आखिरकार लोकसभा और प्रधानमंत्री जी { Pradhanmantri ka chunav kaise hota hai }के चयन में लोकसभा का क्या कार्य है?

संसद में दो सदन होते हैं:

  1. राज्यसभा
  2. लोकसभा

हम इसी लोकसभा के बारे में बात करने वाले हैं दोस्तों मैं आपको बता दूं लोकसभा के जितने भी सदस्य होते हैं वे जनता के द्वारा चुने जाते हैं जी हां आपने सही पड़ा आप लोग ही उन्हें वोट देकर सुनते हो।

  • अगर अब हम यहां सदस्य की बात करें तो लोकसभा में 552 सदस्य ही हो सकते हैं।
  • 530 सदस्य तो सभी राज्य को मिलाकर लिए जाते हैं भारत में कुल 29 राज्य हैं और उन्हें सारे राज्य से यह सदस्य आते हैं।
  • 20 सदस्य केंद्र शासित प्रदेश से लिए जाते हैं और 2 सदस्य एंग्लो इंडियन ( एंग्लो भारतीय ) कहलाते हैं जो राष्ट्रपति उन्हें नियुक्त करता है।

किस राज्य से कितने सदस्य सदस्य नियुक्त किए जाते हैं?

अभी हमने बताया कि 530 सदस्य भारत के 29 अलग-अलग राज्यों से आते हैं तो आखिरकार प्रत्येक राज्य से कितने सदस्य लिए जाएंगे तो मैं आपको बता दूं एक राज्य से कितने सदस्य लिए जाएंगे वह उस राज्य के जनसंख्या एवं किस क्षेत्र में कितनी जनसंख्या है उस पर आधारित होती है।

उदाहरण : राजस्थान से 25 सदस्य लिए जाते हैं और अगर बात करते हैं राजस्थान के जिले जोधपुर तो वहां से सिर्फ एक सदस्य लिए जाते हैं और इसी तरह बाकी के 24 जिले से 24 सदस्य लिए जाते हैं और वह पूरी तरह वहां की जनसंख्या पर डिपेंड करता है।

MP (मेंबर ऑफ पार्लियामेंट) का चयन कैसे होता है?

अब जैसा की बात करें जोधपुर की अगर हमें एक मेंबर ऑफ पार्लियामेंट यानी कि MP (एमपी) को चुनना है तो उसकी पूरी प्रक्रिया क्या होगी?

अब एक MP के लिए काफी उम्मीदवार खड़े होंगे जो किसी ना किसी पॉलिटिकल पार्टी से अपना संबंध जरूर रखते होंगे कोई बीजेपी से होगा, कोई कांग्रेस से इस प्रकार सारे उम्मीदवार किसी ना किसी पार्टी से अपना संबंध जरूर रखते होंगे और हमारा वोट जिस उम्मीदवार को सबसे ज्यादा मिलेगा वह जीत जाएगा।

तो यह तो बात हो गई राजस्थान के जोधपुर जिले का क्या सिर्फ जोधपुर में जितने से काम चलेगा ! जी नहीं बिल्कुल नहीं ! अगर किसी भी पार्टी को अपनी सरकार बनानी है तो उसे बहुमत प्राप्त करना होगा।

अगर 2014 लोकसभा इलेक्शन के आंकड़े की बात करें तो मैं आपको बता दूं कि राजस्थान में कुल 25 सीट है जिसमें से बीजेपी ने कुल 23 सीट जीत लिए थे। तो क्या राजस्थान में इतनी सीटें पाने के बाद बीजेपी की सरकार बन सकती है क्या? नहीं ऐसा नहीं हो सकता इसे बारीकी से समझने के लिए तक अंत तक अवश्य पढ़ें…

बहुमत क्या है कैसे प्राप्त किया जाता है?


  • भारत में कुल 552 सीटें हैं लेकिन इसमें से 543 सीटों पर लोक सभा इलेक्शन का आयोजन किया जाता है।
  • भारत में कुल 552 सीटें हैं लेकिन इसमें से 543 सीटों पर लोक सभा इलेक्शन का आयोजन किया जाता है।
  • भारत में कुल 552 सीटें हैं लेकिन इसमें से 543 सीटों पर लोक सभा इलेक्शन का आयोजन किया जाता है।
  • भारत में कुल 552 सीटें हैं लेकिन इसमें से 543 सीटों पर लोक सभा इलेक्शन का आयोजन किया जाता है।

बहुमत दल के नेता का क्या काम है?

अगर बात करें 2014 लोकसभा इलेक्शन के तो उसमें बीजेपी ने कुल 282 सीटें हासिल की थी यानी कि 543 में 282 तो बीजेपी के उम्मीदवार है और इन्हें ही MP कहा जाता है ।

अब यहां पर बीजेपी के बहुमत पाने के बाद इनका बहुमत दल यह डिसाइड करते हैं चल भारत का प्रधानमंत्री किसे बनाया जाए।

निष्कर्ष: प्रधानमंत्री का चुनाव कैसे होता है

तो प्रधानमंत्री का चुनाव कैसे होता है [ Pradhanmantri ka chunav kaise hota hai ] इससे संबंधित आपको जानकारी अवश्य प्राप्त हुई होगीहालांकि दोस्तों यह पहले से सारा प्री प्लान किया रहता है कि बीजेपी , कांग्रेस या किसी भी अन्य पार्टी को बहुमत मिलती है तो किसे भारत का प्रधानमंत्री बनाया जाएगा ।

हालांकि दोस्तों आप लोग यह समझ गए होंगे कि जो हम लोग वोट करते हैं वह वोट MP को दिया जाता है और पार्टी के बहुमत आने के बाद यही सारे MPs मिलकर भारत के प्रधानमंत्री का चयन करते हैं ।

आशा करता हूं दोस्तों यह आर्टिकल आपको जरूर पसंद आया होगा और यह आपके लिए काफी उपयोगी भी रहा होगा अब इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें और आपका कोई सुझाव हो या कोई भी प्रतिक्रिया को तो आप हमें कमेंट बॉक्स में अपना टिप्पणी लिखकर हमें बता सकते हैं धन्यवाद !

Share it now:

Leave a Comment